सीएम बघेल बोले कार्तिक पूर्णिमा का छत्तीसगढ़ की सांस्कृतिक परंपरा विशेष महत्व, महादेव घाट में रिवर फ्रंट बनवाने की घोषणा

SHARE THE NEWS

रायपुर। कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर शुक्रवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल रायपुर के महादेव घाट पर एक बार फिर आस्था की डुबकी लगाए। हर साल कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल महादेवघाट पहुंचकर स्नान करते हैं और पूजा अर्चना और प्रदेश की खुशहाली के लिए दीपदान में करते हैं.

सीएम बनने के बाद छत्तीसगढ़ की अस्मिता को संरक्षित करने में जुटे हुए हैं। इसी कड़ी में उन्होंने प्रदेश के बहुत ही प्राचीन परंपरा को बरकरार रखने के लिए आज कार्तिक पूर्णिमा का स्नान किए। इसके बाद मुख्यमंत्री ऐतिहासिक हटकेश्वर महादेव का दर्शन कर पूजा अर्चना कर छत्तीसगढ़ की सुख-समृद्धि के लिए प्रार्थना किए। 19 नवंबर से रायपुर के महादेव घाट पर पुन्नी मेला की शुरुआत हो रही है।

महादेव घाट में रिवर फ्रंट बनवाने की घोषणा
मुख्यमंत्री बघेल ने महादेव घाट में रिवर फ्रंट बनवाने की घोषणा की है। भूपेश बघेल ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ की संस्कृति परंपरा में कार्तिक पूर्णिमा का बहुत ही खास महत्व है। महादेव घाट में हर साल यहां कार्तिक पूर्णिमा की भव्यता बढ़ती जा रही है। उन्होंने कहा कि पहले यहां बहुत बड़ा मेला किया जाता था। लेकिन अब यहां भवन बन गए, कई लोगों ने अतिक्रमण कर लिया। इसीलिए नदी को संरक्षित करने और सौंदर्यीकरण करने के लिए रिवर फ्रंट का निर्माण किया जाएगा।

लगातार सीएम बघेल के द्वारा छत्तीसगढ़ के संस्कृति को संरक्षित करने के प्रयास सफल होते नजर आ रहे है। इस साल भी मेले में श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ने के आसार हैं। इस अवसर पर संसदीय सचिव विकास उपाध्याय, महापौर एजाज ढेबर, राज्य गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष महंत रामसुंदर दास, मुख्यमंत्री के सलाहकार प्रदीप शर्मा, नगर निगम के सभापति प्रमोद दुबे सहित अन्य लोग बड़ी संख्या में मौजूद रहे।

देखिए वीडियो…

 794 Views,  2 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: