जानिए कैसे संसद के अंदर खुद को बचाती रही छत्तीसगढ़ की दो महिला सांसद, 42 मार्शलों के बीच बिल का विरोध करना पड़ा भारी

SHARE THE NEWS

रायपुर- राज्यसभा संसद में पुरुष मार्शलों और छत्तीसगढ़ के महिला सांसदों के बीच हुए हंगामें को लेकर आज कांग्रेस ने राजीव भवन कार्यालय में पत्रकार वार्ता का आयोजन किया। वार्ता में प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम के साथ सांसद छाया वर्मा और फूलोदेवी नेताम उपस्थित रहीं। इस दौरान कांग्रेस ने केंद्र सरकार और भाजपा पर महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाया। वहीं कांग्रेस ने हंगामे का पूरा फुटेज सामने लाने की मांग की है। वार्ता के दौरान सांसद फूलोदेवी नेताम भावुक हो गई।

पत्रकारों से चर्चा करते हुए मोहन मरकाम ने कहा कि जिस देश मे नारियों को देवी के रूप में माना जाता है, उस देश में केंद्र की मोदी सरकार महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार कर रही है। इससे देश की आधी आबादी चिंतित हैं। छत्तीसगढ़ की दो महिला सांसदों के साथ पुरुष मार्शलों द्वारा किया गया दुर्व्यवहार बीजेपी की मानसिकता को दिखाती है। महिला सांसदों के साथ दुर्व्यवहार सर्वथा अस्वीकार्य और माफी के काबिल नहीं है।

भाजपा पर लगाया महिला विरोधी का आरोप
प्रदेश अध्यक्ष मरकाम ने भाजपा पर महिला विरोधी का आरोप लगाते हुए कहा कि बीजेपी मूलरूप से महिला विरोधी है। जिस आरएसएस में आज भी महिलाओं को दर्जा नहीं दिया जा रहा है, उससे पोषित भाजपा महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार कर रही है। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि भाजपा को पूरा फुटेज दिखाने का नैतिक साहस दिखाना चाहिए। घटनाक्रम का पूरा वीडियो फुटेज जारी करें। वहीं उन्होंने कहा कि इस मामले में बीजेपी द्वारा की गई प्रेस वार्ता झूठ का पुलिंदा है।

सांसद वर्मा ने घटनाक्रम की दी जानकारी
राज्यसभा सांसद छाया वर्मा ने घटनाक्रम के बारे में बताते हुए कहा कि दिल्ली के राज्यसभा में यह घटना हुई। कांग्रेस सहित 16 विपक्षी दलों ने मांग की थी कि, ‘पेगासस जासूसी मामले’ और ‘तीनों काले कृषि कानून’ जिसके विरोध में 500 किसानों ने जान दे दी है उस पर चर्चा कराने की मांग कर रहें थे। इसी बीच ओबीसी बिल पर भी चर्चा हो रही थी। इस दौरान राज्यसभा के साथ लोकसभा के मार्शलों को वहां लगा दिया गया। करीब 42 मार्शल लगाएं गए थे। पहले पंक्ति में महिला मार्शल, उसके पीछे पुरुष मार्शलों को लगाया गया था। इसी बीच सरकार की तरफ से अचानक दो बिल ले आएं उसमें एक जीवन बीमा एलआईसी का भी बिल था, जिस पर कभी जिक्र भी नहीं किया गया जो जीवन बीमा को बेचने वाला बील था। इसका विरोध करने पर मार्शलों द्वारा धक्का मुक्की की गई, इससे फूलो देवी नेताम नीचे गिर गई और उन्हें चोट भी लगी। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि महिला सांसदों को पुरुष मार्शलों ने धक्का दिया। विरोध के बीच 5-5 मिनट में 2-2 महत्वपूर्ण बिल पास कर दिए। इस तरह मोदी सरकार का तानाशाही रवैया सामने आ रही है। वहीं बीजेपी केवल 2 मिनट का फुटेज दिखाकर हमें बदनाम कर रहें। इस घटनाक्रम की पूरी फुटेज सामने आना चाहिए।

फूलोदेवी नेताम हुए भावुक

प्रेस कांफ्रेंस के दौरान राज्यसभा सांसद फूलो देवी नेताम घटनाक्रम की जानकारी देते हुए भावुक हो गई। उन्होंने कहा की पुरूष मार्शलों ने महिलाओं का अपमान किया। यहां छत्तीसगढ़ के बीजेपी उल्टा हम महिलाओं का ही अपमान कर रहें हैं।
प्रेसवार्ता के पहले कांग्रेस कमेटी ने केंद्र सरकार तक अपनी बात और मांग पहुंचाने के लिए बीजेपी के रायपुर सांसद सुनील सोनी के निवास का घेराव किया साथ ही उनका पुतला दहन भी किया । कार्यक्रम में महापौर एजाज़ ढेबर सभापति प्रमोद दुबे शहर अध्यक्ष गिरीश दुबे सहित तमाम नेता एवं कार्यकर्ता गण उपस्थित थे।

 1,257 Views,  2 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: