स्वास्थ्य और रोजगार के अवसर होगे मजबूत : सीएम बघेल…

SHARE THE NEWS

बेमेतरा। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बेमेतरा और मुंगेली जिले के दो दिवसीय दौरे पर हैं। उन्होंने आज बेमेतरा के स्थानीय सर्किट हाउस में पत्रकारों को संबोधित किया । इस दौरान उन्होंने पत्रकारों से पूछे गए सवालों का जवाब दिया । प्रदेश के विकास में किए जा रहे कई योजनाओं के बारे में बताया । वहीं शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार और अन्य मुद्दों पर पूछे गए सवालों का जवाब दिए।

सीएम बघेल ने पूर्ण जैविक खेती की ओर किसानों को अग्रसर करने के लिए गौठान में अनेक तरह के लघु उद्योग स्थापना की तैयारी की जानकारी दी। साथ ही कोरोना काल में किए गए बचाव कार्यों के लिए स्थानीय प्रशासन की तारीफ की।

समर्थन मूल्य बढ़ने से बढ़ा उत्पादन
पत्रकारों द्वारा पूछे गए सवालों का जवाब देते हुए उन्होंने बतलाया कि 2017 में 15 लाख किसान रजिस्टर्ड थे और 22 लाख किवंटल धान की खरीदी हुई थी, जब से राज्य में कांग्रेस की सरकार ने 2500 रुपए किसानों को समर्थन मूल्य दिए गए है तब से 22 लाख किसान खेती कर 27 लाख हेक्टेयर में धान की पैदावारी ले रहे हैं।

राज्य में केंद्र द्वारा संचालित मॉडल स्कूल के संबंध में पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार के द्वारा इसे ठेके पर दे दिया गया है राज्य सरकार इसे अंग्रेजी माध्यम में तब्दील कर अपने अधीन में लेने के लिए प्रयास करेगी।

स्वास्थ्य सुविधा बेहतर करने का आसवासन
स्थानीय अस्पताल में डॉक्टरों की कमी के संदर्भ में कहा कि डॉक्टरों की कमी पूरे राज्य में जरूर बनी हुई है। सात हजार व्यक्तियों के पीछे एक डॉक्टर है, इसीलिए राज्य सरकार पहले लोकसभा स्तर पर मेडिकल कॉलेज खोलने की तैयारी थी, लेकिन मांग बढ़ती गई, जिसकी वजह से अब प्रदेश सरकार जिला स्तर में स्वास्थ्य सुविधा को मजबूत करने की दिशा में प्रयास कर रही है।

कोरबा, कांकेर, महासमुंद एवं चंदूलाल चंद्राकार हॉस्पिटल में मेडिकल कॉलेज खोले गए हैं। बेमेतरा में भी मेडिकल कॉलेज खोलने की तैयारी है और जांजगीर लोकसभा में भी मेडिकल कॉलेज खोले जाएंगे।

रोजगारोन्मुखी प्रयास
जिले में 2 साल पहले किए शुगर मिल की घोषणा को लेकर उन्होंने कहा कि शुगर मिल की जगह अब जिले में एथेनॉल प्लांट खुलेंगे, छत्तीसगढ़ में उस हिसाब से गन्ना उत्पादन भी नहीं हो रहे हैं जिससे शुगर मिल संचालित हो सके। इस कारण से उसके जगह एथेनॉल प्लांट लगाए जाएंगे। रोजगार की बढ़ती मांग देखते हुए जिले में उद्योग स्थापना पर जोर दिया जा रहा है।

ताकि किसानों को रोजी-रोटी के लिए बाहर जाना ना पड़े। फैक्ट्री स्थानीय स्तर पर लग जाने से रोजगार के पर्याप्त अवसर मिलेंगे। जिले में उद्योगों की स्थापना होने से खेती किसानी से निवृत्त होकर किसानों को रोजगार के लिए अन्य प्रदेश में नहीं भटकना पड़ेगा। वहीं उन्होंने आईटीआई की स्थापना पर भी उन्होंने जोर दिया। उन्हें जानकारी दी कि शीघ्र ही एथेनॉल प्लांट की स्थापना होगी जिसमें 2 प्लांट की स्वीकृति बेमेतरा जिले में दी गई है।

जिले में नियमित रूप से विद्युत कंपनी के द्वारा उपभोक्ताओं को बिल प्रदाय नहीं किए जाने के संदर्भ में उन्होंने कहा कि इसकी जानकारी ली जाएगी ताकि राज्य सरकार के द्वारा घोषित योजना का लाभ उपभोक्ताओं को मिल सके।

केंद्र सरकार पर साधा निशान
सीएम बघेल ने केंद्र सरकार के कृषि कानूनों पर निशाना साधते हुए कहा कि सभी मंडियों को बंद कर दी गई है इसके कारण किसानों को अपनी उपज को बेचने के लिए भटकना पड़ रहा है और अब अनाज स्टाक की लिमिट भी समाप्त कर दी गई है, जिसके चलते कोई भी व्यापारी जरूरत से ज्यादा अनाज का स्टॉक कर सकता है। केंद्र सरकार यह कानून वापस ले तभी किसानों को फायदा हो पाएगा ।

सीएम बघेल ने जिले में रात रुकने का कारण बताया कि वे सभी तरह के समाज के लोगों से मुलाकात कर जानकारी हासिल किए, कि सरकार की योजनाओं का लाभ जन-जन तक पहुंच रहा है कि नहीं।

पत्रकारों के द्वारा पत्रकार वार्ता के लिए हाल एवं आवास के लिए सीएम को आवेदन पत्र सौंपा गया जिस पर उन्होंने उपस्थित कलेक्टर को शीघ्र ही स्टीमेट बनाकर भेजने के निर्देश दिए। इस अवसर पर गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू, जल संसाधन एवं संसदीय कार्य मंत्री रविंद्र चौबे, स्थानीय विधायक आशीष छाबड़ा एवं जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष बंसीलाल पटेल ,जिला कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारी तथा अन्य वरिष्ठ कांग्रेसी नेता के अलावा कमिश्नर आईजी दुर्ग रेंज कलेक्टर एसपी एवं सभी विभाग के उच्च अधिकारी कर्मचारी गण उपस्थित थे।

 390 Views,  2 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: