स्काउट्स एवं गाइड्स ने वसुधैव कुटुम्बकम की भावना बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है : सुश्री उइके

SHARE THE NEWS

राज्यपाल ने उत्कृष्ट स्काउट, गाइड, रोवर, रेंजर, स्काउटर और गाईडर को किया पुरस्कृत

रायपुर, 09 सितम्बर 2021 भारत स्काउट्स एवं गाइड्स संस्था बच्चों में अनुशासन और राष्ट्रीयता की भावना जागृत करती है I संस्था से जुड़े विद्यार्थियों में मानव सेवा की भावना भी उत्पन्न होती है, जो जीवन भर उनके काम आती है। स्काउट और गाइड को यह सिखाया जाता है कि कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता। इसने विविधता में एकता की भावना’ तथा ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ की भावना बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

उक्त बातें राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके ने राजभवन के दरबार हाल में आयोजित भारत स्काउट्स एवं गाइड्स छत्तीसगढ़ के राज्य अलंकरण समारोह में कही। इस अवसर पर उत्कृष्ट स्काउट, गाइड, रोवर, रेंजर, स्काउटर और गाइडर को सम्मानित भी किया। इस अवसर भारत स्काउट एवं गाइड छत्तीसगढ़ के अध्यक्ष एवं स्कूल शिक्षा मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम, उपाध्यक्ष एवं विधायक शकुंतला साहू, आयुक्त एवं विधायक विनोद चन्द्राकर, कार्यकारी अध्यक्ष राजेश अग्रवाल भी उपस्थित थे।

राज्यपाल ने कहा कि इस संगठन ने भारत स्काउट्स एवं गाइड्स एक ऐसी संस्था है, जो विद्यार्थियों को संस्कारित करने का कार्य करती है। स्काउट एवं गाईड को कम सुविधाओं में तथा कठिन परिस्थितियों में स्वयं को ढाल कर जीवन जीने की कला सिखाई जाती है। कहा जाता है कि ‘‘वन्स ए स्काउट ऑलवेज स्काउट’’। यदि बच्चे में एक बार स्काउटिंग का बीज रोपित कर दिया जाए तो वह जीवन भर स्काउट बना रहता है।

स्काउटिंग सभी धर्मों के प्रति श्रद्धा रखना सिखाती है। युवाओं में नेतृत्व क्षमता का गुण विकसित करने का कार्य भी यह संस्था करती है। यहां मुझे स्वामी विवेकानंद का वह कथन याद आ रहा है कि ‘‘अगर मुझे तेजस्वी, श्रद्धासंपन्न और दृढ़विश्वासी और निःस्वार्थ सेवा करने वाले कुछ युवा मिल जाएं तो मैं पूरी दुनिया को बदल कर रख सकता हूं।’’

राज्यपाल ने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य की स्काउटिंग का हमारे देश में अहम योगदान है। कोरोना काल में भी हमारे रोवर्स-रेंजर्स, स्काउटर एवं गाइडर ने अनेक सेवा कार्य जैसे भोजन वितरण, सूखा राशन वितरण, घर-घर दवा पहुंचाना एवं आम लोगों में जनजागरूकता फैलाने जैसे कार्य निःस्वार्थ भाव से किए, जिसके फलस्वरूप पूरे भारत में कोरोनाकाल में सेवा कार्य हेतु भारत को तीसरा पुरस्कार प्राप्त हुआ है। इसके लिए आप सभी बधाई के प्राप्त हैं।

राष्ट्रीय स्तर पर प्रशिक्षण देने के लिए यहां के ट्रेनर्स को अनेकों बार राष्ट्रीय प्रशिक्षण संस्थान पचमढ़ी में आमंत्रित किया जाता है। राज्य में प्रतिवर्ष विभिन्न कार्यक्रम तो होते ही है, राष्ट्रीय स्तर में भी हमारा राज्य सभी कार्यक्रमों में सहभागिता करता है।

राज्य से प्रतिवर्ष शिक्षा विभाग एवं आदिम जाति कल्याण विभाग से 1000 बच्चे पचमढ़ी जाकर निःशुल्क डिजास्टर मैनेजमेंट एवं एडवेंचर कोर्स कर रहे हैं। देश के लोकसभा एवं विधानसभा चुनाव में हमारे स्काउट्स-गाइड्स ने दिव्यांग जनों की सहायता कर एक मिसाल प्रस्तुत की है। मुझे आशा ही नहीं अपितु पूर्ण विश्वास है कि हमारे राज्य के स्काउट्स गाइड इसी प्रकार सेवा के कार्य करते रहेंगे और अपने प्रदेश एवं देश का नाम रोशन करेंगे।

स्कूल शिक्षा मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम ने कहा कि स्काउट्स एवं गाइड्स ने कोरोना काल में कोरोना के प्रति जागरूकता लाने, मास्क वितरण, दवाईयां और भोजन पहुंचाने में उल्लेखनीय कार्य किया। उन्होंने कहा कि स्काउट्स एवं गाइड्स के प्रशिक्षण केन्द्रों और जिलों में कार्यालय को विकसित करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि राज्यपाल ने उत्कृष्ट स्काउट्स गाइड्स को पुरस्कृत करने की जो शुरूआत की है वह पूरे देश के लिए अनुकरणीय हैं।

समारोह को स्काउट्स एवं गाइड्स छत्तीसगढ़ के आयुक्त एवं विधायक विनोद चन्द्राकर एवं कार्यकारी अध्यक्ष राजेश अग्रवाल ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर उत्कृष्ट रोवर-रेंजर्स, स्काउट्स एवं गाइड्स और स्काउटर एवं गाइडर को राज्यपाल की ओर से नगद राशि और प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया। साथ ही थैंक्स अवार्ड भी प्रदान किया गया।

कार्यक्रम में रायपुर जिले से अवन्या शुक्ला तथा उत्कृष्ट स्काउट्स गाइड्स एवं रोवर रेंजर नमन साहू, जीवेश साहू, अनीश पटेल, डागेश्वरी, मुस्कान मैत्री, नंदनी सिन्हा, महेन्द्र बाबू टंडन, राहुल सिंह नेताम, मेघा मिश्रा, करूणा, संतोष कुमार साहू, दीपक ध्रुवंशी, गाइडर सुधा तिवारी एवं सरस्वती गिरिया को पुरस्कृत किया गया।

 1,178 Views,  2 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: