लॉकडाउन:गरीबों की भूख कौन मिटाएगा ???

SHARE THE NEWS

कश्मीर घाटी में लाकडाऊन के दौरान, प्रशासन द्वारा दैनिक घोषणाएँ की जाती हैं कि श्रमिकों और मजदूरों की मदद की जा रही है, लेकिन इन घोषणाओं और दावों की पोल तब खुल जाती है जब योग्य और जरूरतमंद लोगों को भोजन उपलब्ध कराने के नाम पर मजाक बनाया जाता है।

श्रीनगर के मध्य में हब्बा कदल क्षेत्र में गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले परिवारों की संख्या कम नहीं है, जबकि क्षेत्र में रहने वाले ऐसे लोग भी हैं जो दिन भर कमाते हैं और शाम को अपने परिवार के लिए भोजन प्रदान करते हैं।। हालांकि, लॉकडाउन के कारण, वे पूरी तरह से बेरोजगार हो गए हैं रोज़गार का आलम ये है कि दर्जनों ऐसे परिवार हैं जिन को दो वक़्त की रोटी भी मुश्किल से नसीब हो रही है योग्य और गरीब लोगों ने जिला प्रशासन पर राशन और अन्य आवश्यकताएं प्रदान करने के नाम पर उनका शोषण करने का आरोप लगाया।

 2,130 Views,  2 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: