अंग्रेजों के नक्शे कदम पर चल रही भाजपा, इनकों किसान बिल्कुल पसंद नहीं: CM भूपेश बघेल

SHARE THE NEWS

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और कांग्रेस ने आज दिल्ली में प्रेसवार्ता किया। इस दौरान सीएम भूपेश ने कहा कि कल उत्तर प्रदेश के लखीमपुर की घटना हुई, उससे पूरा देश आंदोलित है। सबने देखा कि इस घटना से किस तरह किसानों के साथ बर्बरता की गई। गोलियां चलाई गईं, गाड़ियां जलाई गईं और किसानों पर गाड़ियां चढ़ा दी गईं। पीसी में मुख्यमंत्री के साथ कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता गौरव वल्लभ, प्रणव झा और संजय सिंह भी मौजूद रहे।

सीएम बघेल ने कहा कि दरअसल, यह शुरू से भारतीय जनता पार्टी की सोच रही है। सही मायने में कहा जाए तो भारतीय जनता पार्टी अंग्रेजों से प्रेरणा लेकर ही ऐसी राजनीति कर कर रही है। आपको याद होगा कि 1917 में गांधी जी ठेका खेती का विरोध करने चंपारण गए थे। 1919 का जलियांवाला बाग भी कोई भूला नहीं होगा। 1921 में शांतिगंज में भी अंग्रेजों ने गोलियां चलाई थीं, जिसका विरोध करने नेहरू जी रायबरेली गए थे।

किसान विरोधी स्वरों पर साधा निशाना
मुख्यमंत्री बघेल प्रेसवार्ता के दौरान कहा कि ये जो आंदोलन है, वह तीन काले कानून के विरोध में पूरे पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान में हुए । इन राज्यों के अलावा अन्य प्रदेशों में भी इसका विस्तार हुआ। विधानसभा में भी इन तीन काले कानूनों के विरोध में पंजाब, राजस्थान, पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु में प्रस्ताव पारित किये गये, लेकिन यह भाजपा की हठधर्मिता है।

खासकर खट्टर साहब ने जो कहा कि किसान आंदोलनकारियों के खिलाफ लाठी भांजो, जेल जाओ और बड़े नेता बन जाओ। वहीं लखीमपुर में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री ने कहा कि सुधर जाओ नहीं तो हम सुधार देंगे।

भाजपा कट्टर किसान विरोधी
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि लखीमपुर की घटना से तय हो गया है कि बीजेपी को किसान बिल्कुल भी पसंद नहीं है । बीजेपी दबाने की कोशिश कर रही है। इस घटना के विरोध में प्रियंका गांधी पीड़ित परिवारों से मिलने जा रही थी, उनके साथ दुर्व्यवहार किया गया. उन्हें हिरासत में ले लिया गया है। मैं भी जा रहा था, तो मुझे भी जाने नहीं दिया गया।

नेताओं को नजरबंद किया जा रहा है। हर किसी को लखीमपुर जाने से रोका जा रहा है। क्या उत्तर प्रदेश में जाने के लिए पासपोर्ट या वीजा की अवश्यकता है ? किसी को भी लखीमपुर नहीं जाने दिया जा रहा है। चूंकि मैं ऑब्जर्वर हूं, इसलिए मुझे एआईसीसी से निर्देश आया कि मैं वहां जाउं।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि लखीमपुर में इतनी बड़ी घटना हुई, लेकिन पीएम मोदी और बीजेपी की तरफ से कोई भी प्रतिक्रिया अभी तक नहीं आई है। ये लोग सत्ता की राजनीति करते हैं।

मंच के माध्यम से पीएम से आग्रह करते हैं कि जो केंद्रीय मंत्री किसानों को लेकर ऐसा बयान दे रहे हैं, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाए।
उन्होंने कहा कि राहुल गांधी लगातार किसानों के लिए न्याय की लड़ाई लड़ रहे हैं. किसानों का मुद्दा राजनीतिक नहीं, बल्कि हक का मुद्दा है. इसे राजनीतिक चश्मे से नहीं देखना चाहिए। यह एक तानाशाही रवैया है।

 538 Views,  2 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: